गंगा सस्टैनबिलिटी रन’ मैराथन पर विशेष चर्चा

🏃‍♂️भारत में पहली बार अन्तर्राष्ट्रीय मैराथन का आयोजन सम्भव

🌊गंगा एक्शन परिवार और विवेकानन्द यूथ कनेक्ट फाउंडेशन द्वारा आयोजित

ऋषिकेश, 21 मई। परमार्थ निकेतन में स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी और मानस कथाकार श्री मुरलीधर जी के पावन सान्निध्य में ‘गंगा सस्टैनबिलिटी रन’ अन्तर्राष्ट्रीय मैराथन के आयोजन के लिये विशेष चर्चा हुई।


‘गंगा सस्टैनबिलिटी रन’ की सफलता के लिये आज विश्व ग्लोब का जलाभिषेक कर विश्व शान्ति की प्रार्थना की।
स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने कहा कि माँ गंगा भारत की पहचान है। माँ गंगा ने पृथ्वी पर रहने वाले प्राणियों को जन्म तो नहीं दिया परन्तु जीवन और जीविका के साधन अवश्य प्रदान किये है। साथ ही माँ गंगा युगों से मानवीय चेतना का संचार कर रही है। माँ गंगा के बारे में जितना कहा और लिखा जाये वह कम है। माँ गंगा का अवतरण स्वर्ग से राजा सगर के साठ हजार पुत्रों का उद्धार करने के लिये हुआ था परन्तु तब से लेकर आज तक उसके तट पर जो भी आया वह शान्ति लेकर लौटा।
स्वामी जी ने कहा कि भारत की सभ्यता का समृद्ध इतिहास गंगा में समाहित है। भारत की संस्कृति विविधता में एकता और संस्कृतिक धरोहर को गंगा के तटों पर देखा जा सकता है। माँ गंगा 40 करोड़ लोगों का भरण-पोषण करती है परन्तु विडम्बना यह है कि भारतीयता, आस्था और आध्यात्म का जीवंत प्रतीक गंगा दुनिया की प्रदूषित नदियों में से एक है इसलिये गंगा जी के प्रति हर व्यक्ति को जागरूक होना होगा।
डा राजेश सर्वज्ञ अध्यक्ष विवेकानन्द यूथ कनेक्ट फाउंडेशन ने कहा कि दुनिया में 30 डेस्टिनेशन मैराथन हैं, जो पूरी दुनिया में प्रसिद्ध हंै परन्तु हमारे भारत का एक भी शहर अभी उस मैराथन में नहीं आता है इसलिये विवेकानन्द यूथ कनेक्ट फाउंडेशन और गंगा एक्शन परिवार, परमार्थ निकेतन के संयुक्त तत्वाधान में ‘गंगा सस्टैनबिलिटी रन’ अन्तर्राष्ट्रीय मैराथन का आयोजन सितम्बर या अक्टूबर में किया जायेगा । ‘गंगा सस्टैनबिलिटी रन’ 10 किलोमीटर, 21 किलोमीटर और 35 किलोमीटर और 50 किलोमीटर पर अल्ट्रा रन चार स्तरों में की जायेगी। इसमें देश दुनिया और पूरे भारत से धावक व युवा इसमें सम्मिलित होंगे। माँ गंगा के सस्टैनबिलिटी के लिये और माँ गंगा में बढ़ते प्रदूषण के प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिये इस मैराथन का आयोजन किया जायेगा। साथ ही इससे उत्तराखंड के पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा तथा युवाओं को रोजगार भी प्राप्त होगा।
इस मैराथन के माध्यम से सरकार और समाज के मध्य एक सेतु बनाकर माँ गंगा की स्वच्छता के लिये कार्य किया जायेगा। इस मैराथन को परमार्थ निकेतन के अध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी और देश के पूज्य संतों का दिव्य आशीर्वाद प्राप्त है।
इस अवसर पर विख्यात पर्यावरणविद् चिपको आंदोलन के प्रेरणास्रोत श्री सुन्दरलाल बहुगुणा जी को याद करते हुये उनकी पुन्यतिथि पर भावभीनी श्रद्धाजंलि अर्पित करते हुये स्वामी जी ने कहा कि श्री बहुगुणा जी ने माँ गंगा, पर्यावरण, वृक्षारोपण और हिमालय के लिये कार्य किये वे अद्भुत है। चिपको आन्दोलन के लिये आने वाली पीढ़ियां उन्हें सदैव याद रखेगी।
ज्ञात हो कि भारत के मिस्टर सेंडीवन डेस्टिनेशन मैराथन के प्रतिनिधि है तथा इस मैराथन के लिये लन्दन से सर्टिफिकेट प्राप्त करना होता है। ‘गंगा सस्टैनबिलिटी रन’ के लिये इस सप्ताह सर्टिफिकेट प्राप्त हो जायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *